ढाई सौ साल पुराना हैं इमाम बाड़ा

0
23
लखनऊ (मयुरी रस्तोगी)-
लखनऊ में इमाम बाड़े का इतिहास तक़रीबन ढाई सौ साल पुराना हैं ! इमाम का मतलब अवतार और बाड़े का मतलब घर ! यानी अवतार का घर !
बताया जाता हैं  इस इमाम बाड़े को बनाने में 11 वर्ष लगे थे ! इसे नवाब आसिफ दौला ने बनवाया था ! रोजाना इसे देखने हजारो लोग आते थे ! इसे भूल भुलैया भी कहा जाता हैं ! बताया जाता हैं, अंंग्रेजो की फौज यहाँ घुसी थी लेकिन वापस नहीं लौटी ! यह भी कहा जाता हैं यहाँ से कई सुरंगे कई रास्तो पर जाती थी ! यह बताया जाता था ! इस इमाम बाड़े में बड़ा खजाना छिपा हैं ! लेकिन उसका पता आज तक नहीं लग सकाहैं ! यू.पी.सरकार लम्बे समय से इसका सौंदर्य करण कार्य करा रही हैं !
इमाम बाड़े में जल महल जिसे बावली भी कहते है बनी हुई थी ! जिसमे हमेसा पानी भरा रहता था ! बावली का कनेक्शन गोमती नदी में था ! लिहाजा उसमे कभी भी पानी कि कमी नहीं रहती थी ! बावली पर हमेशा पहरा रहता था ! अंग्रेजो की नजर इमाम बाड़े के खजाने पर लगी रहती थी ! यह बात अलग हैं, इमाम बाड़े की सुरक्षा व तकनीक के आगे उनकी कुछ नहीं चल सकी !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here