मुर्गी सस्ती-दाल महंगी

0
59
नई दिल्ली (सी.पी.एन)ः- दे दाल में पानी सुना होगा आपने। जी हां आजकल कुछ ऐसा ही हो रहा है। दाल की कीमते आसमान छू रही है। तो दबाकर पानी डालना पड़ रहा महिलाओं को दाल में ।
पहले सुना करते थे दाल-रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ। लेकिन आज दाल खाना इतना आसान नहीं रह गया है। दाल की कीमते  मुर्गे से भी जयादा हो चुकी है। कहावत थी घर की मुर्गी दाल बराबर। लेकिन अब यह कहावत भी पलट गई है। अब लोग कहने लगे है। घर की दाल मुर्गी बराबर। यानी मुर्गी सस्ती और दाल महंगी
दाल की बढती कीमतों को लेकर सीपीएन की टीम ने लिया बाजार का जायजा। दिखाते है आपको भी आखिर दाल पर बनी कहावतें क्यों पलट रही है देखिऐ अंकित शर्मा व पूनम त्यागी की रिपोर्ट..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here