भाजपा : कार्यकर्ताओं में मंडल अध्यक्षों के चयन पर उठने लगे सवाल

0
10

नई दिल्ली ( अश्वनी भारद्वाज )

भारतीय जनता पार्टी द्वारा घोषित किये गये मंडल अध्यक्षों पर कई स्थानों पर खुलकर तो कई स्थानों पर भीतरी तौर पर सवाल उठने शुरू हो गये हैं | विरोध जता रहे कुछ लोग तो पार्टी हाईकमान को खत तक लिख रहे हैं तो कुछ सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी बात रख रहें हैं | सवाल उठाने वाले तो यहां तक पूछ रहे हैं आखिर जिला अध्यक्षों की नियुक्ति से पहले ऐसी कौन सी मजबूरी थी जो मंडल अध्यक्षों की घोषणा पहले की गयी | जबकि भाजपा में ये परम्परा नहीं रही | पहले प्रदेश उसके बाद जिला और सबसे बाद में मंडल अध्यक्षों की घोषणा की जाती रही है |
अनेक लोग ऐसे हैं जो कह रहें हैं निगम पार्षदों की ही चली है और वे अपने पिछलग्गुओं को अध्यक्ष बनवा लाये | वे पूछ रहें हैं फिर रायशुमारी के मायने ही क्या रह गये | वहीं कुछ निगम पार्षदों और यहाँ तक की पार्टी के गिने चुने विधायकों में से भी कुछ को शिकायत है उनकी सहमती के बिना ही उनके क्षेत्र में मंडल अध्यक्ष बना दिए गये | कुल मिलाकर असंतोष के स्वर ज्यादा सुनने को मिल रहे हैं | कई स्थानों पर ये भी आरोप लग रहे हैं कांग्रेस पर भाई भतीजावाद के आरोप लगाने वाली भाजपा भी अब उसी रास्ते पर चलने लगी है | इतना ही नही.एक विधायक नें तो नाम न छापने की शर्त पर बताया ऐसे व्यक्ति को भी उनके इलाके से मंडल अध्यक्ष बना दिया गया जिसने विधानसभा चुनाव में उनका साथ देना तो अलग उनके खिलाफ ही काम किया था |
कई समाजों, जातियों की ओर से भी इस बाबत विरोध जताया जा रहा है विधान सभा हो या लोक सभा चुनाव उनकी बिरादरी या समाज भाजपा को ही वोट देता है लेकिन उनकी संख्या के आधार पर उन्हें प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया | इतना ही इसके परिणाम निगम चुनाव में भुगतने की चेतावनी भी दी जा रही है | उत्तर पूर्वी दिल्ली से उत्तरांचल समाज के कद्दावर नेता नित्यनन्द गैरोला ने तो इस बाबत पार्टी हाईकमान को आंकड़े पेश करते हुए बताया है उनके समाज के लाखों लोग भाजपा से जुड़े हैं और सूची देख कर अंदाजा लगाया जा सकता है भाजपा नें उत्तरांचल समाज को अपने सन्गठन में कितनी भागेदारी दी है | पार्टी से जुड़े अल्पसंख्को का भी यही दर्द सुनने को मिल रहा है | उनका इस्तेमाल केवल मंचो तक होता है | सियासत की भागेदारी में नहीं, अभी शुरुवात है | ये चिंगारी भाजपा को निगम चुनावो में भारी पड़ सकती है इस सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here