सिविल सर्विस परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए बहाना पड़ता है पसीना : गौरव कुमार

0
10

नई दिल्ली ( अश्वनी भारद्वाज / वीर अर्जुन )

जब इरादे बुलंद हो तो इंसान को आगे बढने से कोई नहीं रोक सकता | लेकिन उसके लिए मेहनत करनी होती है, प्रयास करना होता है | कहा गया है मेहनत इतनी खामोशी से करो कि कामयाबी की चर्चा पूरे शहर में हो | जी हां हम बात कर रहें हैं उत्तर पूर्वी दिल्ली के अशोक नगर क्षेत्र में रहने वाले होनहार युवक गौरव कुमार की | गौरव ने इसी बैच में सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण कर ना केवल अपने दिवंगत पिता वी.के. सिंह का नाम रोशन किया है अपितु अशोक नगर क्षेत्र की शौहरत को भी चार चाँद लगाए हैं | मूलरूप से मेरठ के खंडावली गावं निवासी गौरव 1995 से अशोक नगर में अपने परिवार के साथ रहतें हैं | उनके पिता दिल्ली पुलिस में अतिरिक्त थानाध्यक्ष थे |
मात्र 46 वर्ष की आयु में उनके निधन के बाद उनके बड़े पुत्र को पुलिस में सिपाही की नौकरी मिलने के बाद गौरव नें ठान लिया था उसे भी पुलिस में बड़े ओहदे पर पहुंचना हैं | बकौल गौरव उनके पिता का भी यही सपना था कि मैं सिविल सर्विस की परीक्षा उत्तीर्ण करूं | उनकी और उनके ए.सी.पी. आई.पी.एस. अधिकारी संजय कुमार सेन की प्रेरणा से मेरा रुझान इस ओर हो गया था और मैंने ठान लिया था कुछ भी हो ये परीक्षा पास करनी है | वीर अर्जुन से बातचीत में गौरव ने बताया इसके लिए मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ी लेकिन मैं पढाई के साथ-साथ आराम भी बराबर ही करता था | आठ घंटे पढ़ता था तो आठ घंटे आराम भी करता था | बाकी समय घर परिवार, दोस्तों के साथ बिताता था इतना ही नहीं शेयरो-शायरी मेरा शौक है उसे भी समय देता था, गजल लिखता और पढ़ता था | गौरव कहते हैं समय की कीमत समझनी चाहिए यानि जिस समय पढाई करनी है तो करनी है | और जिस समय आराम करना है तो करना है |
गौरव नें अपनी प्रारम्भिक शिक्षा दिलशाद गार्डन के नूतन विद्या मन्दिर स्कूल से की जबकि स्नातक साइंस विषय से दिल्ली के हंसराज कालेज से की और वहीं से जंतू विज्ञान विषय से एम.एस.सी. की परीक्षा पास की | गौरव नें बताया वो पी.एच.डी. करना चाहते थे, लेकिन पिता को दिया वचन भी निभाना था लिहाजा सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी में जुट गए और मेरी मेहनत ने मेरे पिता का सपना और मेरा लक्ष्य पूरा कर दिया | गौरव कहते हैं मेरी पढाई की ईच्छा अभी पूरी नहीं हुई है | पोस्टिंग मिलने के बाद भी मेरी पढाई और अगली मंजिल के लिए प्रयास जारी रहेगें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here