दस हजार से अधिक दोहे लिख चुके हैं रमेश बाबू व्यस्त

0
7

नई दिल्ली ( आशीष कुमार / विपिन महेश्वरी )

उम्र अस्सी बरस लेकिन जज्बा आज भी नौजवानो सा जी हाँ हम बात कर रहे हैं रमेश बाबू शर्मा व्यस्त जी की | जो रोज नित आज भी साहित्य के सेवा में लीन हैं | दिल्ली सरकार में प्रवक्ता रहे श्री व्यस्त अभी तक दस हजार से ज्यादा दोहे लिख चुके हैं और यह सिलसिला जारी है | काव्य पर नौ खंड लिखे हर खंड में सहस्त्र धाराएं हैं यानि हर खंड में एक हजार दोहे |
आस्था पथ, तृष्णा बैरिन बावरी, निष्ठा के स्वर, सुन भाई साधो तथा मानव की मन वेदना आदि रचनाएँ काफी सराही गई | गत दिनों हमारे निमंत्रण पर सी.पी.एन. ऑफिस में काव्य कलश प्रोग्राम के तहत हमारी रिपोर्टिंग टीम ने उनसे की लम्बी बातचीत, बड़ा आनंद आया,आप भी सुने व्यस्त जी के दोहे ………

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here