जन्नत के बाद कोई गाइडेंस न होने से साउथ कि और जाना पड़ा

0
8

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान ही बॉलीवुड में लीड रोल मिलना आसान नहीं, सुंदरता होने के साथ साथ एक्टिंग में भी महारत हासिल होने से दर्शकों को एंटरटेनमेंट में जन्नत की सैर कराने वाली सोनल चौहान जोकि हाल ही में एक म्यूजिक एलबम में नजर आई हैं उनके फिल्मी सफ़र पर रविन्द्र कुमार के साथ हुई बातचीत के कुछ अंश।
सवाल -” फुरसत आज भी है ” म्यूजिक एलबम में आपका वही जन्नत जैसा रूप देखने को मिलता है, क्या वजह रही जो यह एलबम निकाला?
सोनल चौहान- ज़िन्दगी में कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें हम प्यार करते हैं ,उनसे लड़ते है। जब उनसे दूर होते है तब उनके लिए एक फीलिंग होती है, रूमानी एहसास होता है। उसी को दर्शाता है यह सॉन्ग। हमने अपने घर पर ही फोन से शूट किया । अर्जुन कानूनगो का कॉल आया केवल 4 लाईन सुनने के बाद ही मैंने इसे करने का हां बोल दिया।
सवाल – लॉकडाउन के दौरान आपका घर में समय कैसे बीता ?
सोनल चौहान – मेरे लिए यह समय काफी पॉजिटिव रहा। जब लॉकडाउन अनाउंस हुआ तभी समझ लिया था कि यह जल्दी समाप्त नहीं होने वाला।देखिए आपके पास हर चीज की दो चॉइस होती हैं एक उससे स्ट्रैस ले और दूसरी कि उसे सकारात्मक लें। मैंने इसे पॉजिटिव ही लिया जिसमें कि नई नई चीजें सीखीं
खाने के कई व्यंजन बनाए, फिटनेस पर ध्यान दिया, योगा मैट को ही जिम बना लिया। स्कैचिंग भी सीखी।
सवाल – लॉकडाउन के दौरान काफी लोगों की नौकरियां गईं और लोगों पर बेरोजगारी के साथ साथ आर्थिक संकट भी पैदा हुआ। ऐसे में लोगों से क्या कहना चाहेंगी?
सोनल चौहान – जब लॉकडाउन लगा तब मेरे पापा से इसी बारे में बात हो रही थी उनका कहना था यह काफी लंबे समय तक चलेगा। और वाकई में आज यह समस्या हमारे सामने है। मेरा कहना यह है कि तनाव लेने के बजाय अपनी काबिलियत को पहचाने और आगे क्या करना है उस पर काम करें नई जॉब की खोज भी करें साथ ही ऑनलाइन वर्क फ्रॉम होम में अप्लाई करें यह मुश्किल समय है निकल ही जाएगा।
सवाल- कोरोना काल में हुए लॉकडाउन में मिल रही छूट से लोग पहले की तरह बाहर घूम रहे हैं ऐसे में आपका क्या कहना है?
सोनल चौहान – देखिए अनलॉक इसलिए नहीं हुआ कि कोरॉना खत्म हो गया है बल्कि पहले से ज्यादा प्रभावी हो चुका है अगर हाँ ज्यादा दिनों तक अपने को काम से दूर रखेंगे तो अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान होता। इसलिए अनलॉक प्रक्रिया को समझे जरूरी काम से ही बाहर जाए और सोशल डिस्टेन्स का पालन जरूर करें।
सवाल- फिल्मी कैरियर की शुरुआत कहां से और कैसे हुई?
सोनल चौहान – मुंबई आते वक़्त मेरा ऐसा कोई प्लान नहीं था कि मुझे फिल्म ही करनी है किस्मत से मुझे जन्नत फिल्म मिली , जोकि हिट साबित हुई उस वक़्त मेरी उम्र काफी कम थी मुझे तो यह भी पता नहीं लगा कि हिट हुई फिल्म की सक्सेस को कैसे इंजॉय किया जाए ।
सवाल- हिट फिल्म देने के बाद आप बॉलीवु़ड से गायब ही हो गई कोई खास वजह?
सोनल चौहान – जन्नत फिल्म के वक़्त मेरी पढ़ाई अधूरी थी फिल्म के बाद मैं वापस नोएडा आई, और अपनी पढ़ाई पूरी की। उस समय जरूरी यह था, कि मै मुंबई में रहती पर मुझे नोएडा में रहना पड़ा कोई गाइडेंस न होने से मैं उस समय को ठीक से मैनेज नहीं पाई। मुंबई वापसी पर बच्चन साहब के साथ फिल्म” बुद्घा होगा तेरा बाप”में काम किया उस समय इंडस्ट्री से किसी का खासा कोई सपोर्ट नहीं मिला पर साउथ से लगातार ऑफर आने लगे उसके बाद मेरा झुकाव साउथ इंडस्ट्री की तरफ को गया। साउथ में कुछ फिल्में ऐसी लगी कि मुझे लगा यह करनी चाहिए आज मेरी काफी अच्छी फिल्में है उस तरफ मैं काफी एक्टिव हूं।
सवाल- आज आप जो भी हैं उसका श्रेय किसे देती हैं।
सोनल चौहान – मैं यह श्रेय अपने मम्मी पापा को देती हूं मेरा परिवार काफी ही मेरी ज़िन्दगी है मेरे मेरी मम्मी ने मुझे लगा सपोर्ट किया पापा काफी सख्त मिजाज़ के होने के साथ साथ एक अलग सोच रखते हैं उन्होंने मुझे हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित ही किया। यह
सवाल – अपने होम टाउन को कितना मिस करती हैं
सोनल चौहान – नोएडा मेरी लाइफ का सबसे इंपॉर्टेंट हिस्सा है मेरी बचपन की यादें यहीं से जुड़ी हुई हैं स्कूलिंग नोएडा से हुई और कॉलेज की पढ़ाई दिल्ली स्थित गार्गी कॉलेज से हुई।नोएडा के खाने की बात हो तो मोमोज को मैं काफी मिस करती हुं नोएडा आते ही सबसे पहले मैं अपनी पसंदीदा शॉप पर जाकर भरपेट मोमोज खाऊंगी।
सवाल – परिवार और बचपन के दोस्तों के साथ कितना करीबी रिश्ता है ?
सोनल चौहान – अभी भी मैं अपने दोस्तों से संपर्क में रहती हूं बीते दिनों घर में ही रहने से सबसे फोन पर इतनी बात हुई जितनी एक्ट्रेस बनने से पहले हुआ करती थी।मम्मी पापा को रोज़ 10 बार फोन करती हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here