कुदरत के रंग निराले, व्यास का बदला रूप

0
6
कुदरत के रंग भी निराले हैं, मनाली में जहाँ करीब एक माह पूर्व व्यास नदी इतनी उफान पर थी कि वोल्वो बस और ट्रक तक को अपनी चपेट में ले दूर तक बहाकर ले गई थी और इतना तांडव मचाया था कि कई किलोमीटर तक नदी का पानी तटों को तोड़ते हुए सडक पार कर गया था उसी स्थान पर नदी आज एकदम शांत है | आलम यह है कि कई स्थानों पर तो केवल पत्थर ही दिख रहे हैं | अलबत्ता नदी ने जो मार्ग ध्वस्त किये थे वे जर्जर हाल में पड़े हैं | हालांकि प्रशासन मरम्मत में जुटा है लेकिन बेहद धीमी गति से……

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here