70 विधानसभाओं में ‘‘भगौड़ा दिवस’’ मनाया :

0
26
नई दिल्ली ( विपिन महेश्वरी )
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षअजय माकन के नेतृत्व में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी केजरीवाल सरकार की चिकनगुनिया व डेंगू जैसी महामारियों को रोकने में असफलता के खिलाफ 70 विधानसभाओं में ‘‘भगौड़ा दिवस’’ मनाया| श्री माकन ने AAP पार्टी की दिल्ली सरकार, तीनांे नगर निगमों में शासित भा.ज.पा. व केन्द्र की भा.ज.पा. सरकार की विफलता के कारण दिल्ली में चिकनगुनिया व डेंगू जैसी बीमारियों के महामारी का रुप लेने के खिलाफ चार्जशीट जारी की । कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए श्री माकन ने कहा कि दिल्ली के इतिहास में पहली बार हुआ है कि चिकनगुनिया तथा डेंगू जैसी बीमारियों ने महामारी का रुप ले लिया है यह भी इतिहास में पहली बार हुआ है कि एक तरफ तो दिल्ली में महामारी फैली हुई है और दूसरी ओर ऐसे समय में दिल्ली के कर्णधार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल बैंगलूरु, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया फिनलैंड गए हुए है। ऐसे समय में दिल्ली के उपराज्यपाल अमरीका गए हुए थे तथा भाजपा शासित नगर निगम के एक मेयर भी विदेश में सैर सपाटा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अन्य मंत्री छत्तीसगढ़ में है तथा स्वास्थ्य मंत्री गोवा गए हुए थे, जो वापस लौट आए है। श्री माकन ने कहा कि जहां दिल्ली में चिकनगुनिया जैसी महामारी से लोगों की मौत हो रही है ऐसे समय में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री का यह बयान कि चिकनगुनिया से मौत नही हो सकती, उनकी गैर संवेदनशीलता को दर्शाता है। जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा जारी अप्रैल 2015 की रिपोर्ट में यह कहा गया था कि उत्तरी व दक्षिणी अमरीका में 191 लोगों की मौत चिकनगुनिया से हुई थी। क्या हम यू.एन.ओ. के महत्वपूर्ण अंग विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट को नकार दे कि चिकनग श्री माकन ने केजरीवाल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि चिकनगुनिया से अभी तक 10 मासूम लोगों की जान जा चुकी है और दिल्ली के अस्पतालों की यह हालत है कि एक बेड पर 3-4 मरीज लेटे हुए है। मौहल्ला क्लीनिकों के हालात तो यह हैं कि केवल 4 घंटे के लिए इनको खोला जाता है और इन क्लीनिकों में से डाक्टर व दवाईयां नदारद हैं। दिल्ली सरकार नागरिकों को स्वास्थ्य सेवाऐं देने में विफल रही है जो कि नागरिकों के स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के मौलिक अधिकार का हनन है अर्थात दिल्ली सरकार अपनी संवैधानिक कर्तव्य निभाने में असफल रही है। श्री माकन ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री यह कहते है कि दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाऐं दुरुस्त हैं। उन्होंने कहा कि मैं केजरीवाल से यह प्रश्न पूछना चाहता हूँ कि यदि दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाऐं ठीक है तो बैंगलूरु अपना इलाज कराने क्यों गए। यानि कि उनको अपनी ही दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाओं पर विश्वास नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here