ट्रिपल मर्डर, चार परिवार चौराहे पर

0
25
नई दिल्ली ( अंकित शर्मा )
नंद नगरी में रहने वाले 60 वर्षीय बुजुर्ग रामकिशन ने सोचा भी नहीं था जिस पूरे परिवार के साथ बैठकर वह खाना खा रहा है , चंद घंटो बाद वह परिवार तबाह हो जायेगा और तबाही का कारण भी उसका अपना दामाद बनेगा ! और ना ही वह खुद बचेगा और ना ही उसका नौजवान बेटा राजू और दूसरा दामाद किरनपाल !
   लेकिन शायद कुदरत को यही मंजूर था , एक सिरफिरे दामाद राजेश की वजह से रामकिशन तो उसका शिकार बना ही बल्कि उसका नौजवान बेटा और एक दूसरा दामाद हमेशा हमेशा के लिए दुनिया से चले गए ! इतना ही नहीं दूसरा दामाद तरुण व पोता करन अभी अस्पताल में भर्ती है !
    नंद नगरी के ई 4/88 में रामकिशन की पत्नी बीना का रो-रो कर बुरा हाल है ! अपने पति के अलावा जवान बेटे व दामाद की हत्या के बाद वह बुरी तरह से टूट चुकी है ! सी.पी.एन. टीम को उन्होंने रो-रोकर अपनी व्यथा सुनाई !
  मृतक राजू की पत्नी भारती व किरनपाल की पत्नी आशा के सामने पहाड़ जैसी जिंदगी है ! दो-दो छोटे बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी है उन्हें जूझ नहीं रहा आगे का जीवन कैसे कटेगा !
    परिवार के तीन लोगों को श्मशान पहुँचाने वाले राजेश की पत्नी और रामकिशन की बेटी राखी इस जघन्य हत्या कांड की वजह से सदमे में है ! वो बताती है उसके ससुराल वाले उसके पति को मायके वालों के प्रति भड़काते थे !
    रामकिशन की पत्नी बीना भी राजेश के परिजनों को इस हत्या कांड के लिए दोषी मानती है ! किरनपाल की पत्नी आशा तो वारदात को अंजाम देने वाले राजेश को फाँसी दिलाने की मांग कर रही है !
   राजेश ने इस वारदात को क्यों अंजाम दिया ये तो जाँच का विषय है लेकिन उसकी इस घिनौनी हरकत से ना केवल उसका अपना अपितु तीन और परिवार आज चौराहे पर आकर खड़े हो गए है !
|tripal murder |damad ke ki sasur ki hatya |hatya ya shajis |teen parivar chourahe par

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here